Learning to be quiet in a noisy world ,will you be able to also? Try.|| शांत होना सीखना, क्या आप भी कर पाएंगे? कोशिश करो || Apprendre à être tranquille, pourrez-vous aussi? Essayez-le ||

           
English version

                      Learn to be Quiet, it seems difficult and impossible here. I am not telling you the meaning of Quiet silence here. Whereas to be Quiet here means to be Quiet from inside your heart.

To remain Quiet means knowing your mind. By keeping silent, we move towards a wonderful peace.



Have you ever felt that your mind has been Quiet even for 1 minute, I must have found it quiet only by sleeping. This thing happens to everyone because while sleeping, this mind also goes to sleep, but maybe the dreams that come up will also wake up him somewhere as well.

But apart from this, I could not find it quiet keeping my body awake, but I have tried a lot to keep my mind silent.

To learn to be Quiet, to say that it is a very difficult art, in which only after a lot of effort can be kept quiet for a few moments.

I have been trying to do this art for the last 3 months. Every day in 1 hour, consider my mind, I try to tell my mind to be quiet for a moment  but it gives no respect. After a lot of efforts, I know to keep it quiet for a few moments.

Let me also tell you how I am trying to do this and Some people may have been doing and even doing it.

You can do this by sitting in meditation situation or lying down like a corpse could be also possible.It means leaving your body loose.

Now we have to close our eyes and take a deep breath and count for 100 seconds for a few moments.

Now whenever you see if your mind is wandering here and there, then you immediately repeat the above mentioned method again.

You can do this for a few days. Now if you feel that your mind is somewhat is under some control, then you move to the other method.

Keep in mind that you have to keep your body absolutely stable. Don't move your body at all.

Now you have to focus your mind on your breath and your nose tip. You have to bind your mind to pay attention to your breath again and again.

In such a situation your mind will go astray and different thoughts can come. But again, remove it from thoughts and concentrate on the breath.

With this method, your mind can be quiet for somehow for few moments at least and you will be able to remain quiet.But it will take a lot of time. But kept doing this method.

You also have to know why your mind wanders here and there. That is because it wanders in search of happiness and sorrow.

The meaning is that when we desire something, then this mind starts moving. Then if we get that thing then we and the mind gets happiness and if that thing is not found, then this mind becomes sad and we are sad.

This means that if we keep our wishes under our control, then our mind will not be so distracted.
By stopping or controlling the wishes, your mind can be kept under control as well.

That is why the wishes of those who were saint were equal to nothing and they were able to keep their mind completely silent.

I am trying every day to learn how to keep quiet, do you too?
   

Hindi Version


                     चुप रहना सीखना एक बाहत ही मुश्किल और यूँ कहें की असंभव  सा लगता है। मैं यहाँ चुप रेहने  का मतलब मुँह से चुप रहने की तरफ नहीं बता रहा हूँ। जबकि चुप  रहना से यहाँ मतलब अपने अंदर से अपने मन से चुप  रहने से है। 

तोह चुप रहने का मतलब अपने मन को जानने से है। मन से चुप रहना से हम एक अद्भुद शांति की तरफ बढ़ते है। 



क्या अपने कभी मेहसूस किआ  है की आपका मन कभी भी  १ मिनट भी चुप रहा हो , मैने  तोह इसको केवल सोते हुआ ही शांत पाया होगा।  यह तोह सबके साथ होता  है क्यूंकि सोते हुआ तोह यह मन भी सो जाता है परन्तु शायद जो सपने आते है तब कहीं यह भी उठ ही जाता होगा. 

परन्तु इसके इलावा मैने इसको अपने शरीर जागते हुए चुप नहीं पाया ,पर मने कोशिस बहुत की है अपने मन को चुप रखने की। 

चुप रहना सीखना तोह यूँ कहें की एक बहुत ही मुश्किल  सी  एक कला ही  है जिसमे बहुत जायदा अब्यास करने पर ही कुछ पल के लिए चुप रहा जा सकता है। 

इस कला  को मैं लास्ट ३ महीने से करने की कोशिस कर रहा  हूँ। हर रोज़ १ घंटा मे  अपने मन को  मानो कहता हूँ चुप होजा पर यह है की ममानता  ही नहीं। बहुत कोशिशों के बाद मैं  कुछ पल के लिए ही  इसको चुप रख पता हूँ। 

चलिए आपको भी बताता हूँ की मैं  कैसे यह कोशिसि कर रहा हूँ और  कुछ लोग तोह कर भी रहे होंगे और करते रहता होंगे। 

आप  इसे चाहे तोह ध्यान समाधी मे  बैठ कर और सीधे लेट कर एक शव के जैसे लेट कर भी कर सकते है।इसका अर्थ अपने  अपने शरीर को ढीला छोड़ देना है  

अब हमे आंखे बंद कर लेनी है और गहरी साँस ले कर कुछ पलों  तक आप  १०० तक भी काउंट  करना  है। 

अब आप जब भी देखें यदि आपका मन इधर उधर भटक  रहा है तब आप तुरंत वापिस से उप्पर बताई गयी विधि को फिर से  दोहराएं 

आप कुछ दिन तक  ऐसा कर सकते है।  अब अगर आपको लगता है आपका मन कुछ हद तक वश  मे  है तब आप आप दूसरी विधि की तरफ बढ़ें। 

ध्यान रहे आपको अपना शरीर को बिलकुल स्थिर रखना है। अपने शरीर को हिलाएं बिलकुल ना। 

अब आपको अपने मन को अपनी साँस पे और अपने नोज पर  केंद्रित करना है। अपने अपने मन को बार बार साँस पर ध्यान देने के लिए बाँधना है। 

ऐसे मे आपका मन बहुत भटकेगा और अलग अलग विचार आ सकते है । पर  फिर से उसे विचारो से हटा कर साँस पर ध्यान लगवाएं। 

इस विधि से आपका मन पूरी से आपके वश  मे  आ सकता है और ऐसा होने पर  आप चुप रहना सिख पाएंगे। 
पर ऐसा करने मै बहुत समय लगेगा।  परन्तु  इस विधि को करते रहे। 

आपको यह भी जानना होगा की आपका मन क्यों इधर उधर भटकता है। वो इसलिए क्योंकि यह सुख और दुःख की तलाश मे भटकता रहता  है। 

अर्थ यह है की जब हम किसी वस्तु की इच्छा करते है तब यह मन उस और चलने लगता है। फिर जब वह वस्तु अगर इसको मिल जाये तोह हमे और मन को सुख प्राप्त होता है और यदि वह वस्तु ना मिले तोह यह मन दुखी हो जाता है और हमे दुःख होता है। 

मतलब यह है की यदि हम अपनी इछाओ को अपने वश मे रखे तोह हमारा मन भी इतना भटकेगा नहीं।
इछाओ को रोकने से भी अपने मन को वश मै  रखा जा सकता है.

इसीलिए जो महात्मा  होते थे उनकी इच्छाएं कुछ नहीं  के बराबर ही रहती थी और वह अपने मन को पूरी तरह चुप रख पाते थे.

मैं तोह हररोज़ यही  कोशिश मे लगा हूँ की कैसे चुप रहना सीखें ,क्या आप भी ?



French Version


                    Apprenez à être tranquille, cela semble difficile et impossible ici. Je ne vous dis pas le sens du silence tranquille ici. Alors qu'être tranquille ici signifie être tranquille de l'intérieur de votre cœur.

Rester tranquille signifie connaître votre esprit. En gardant le silence, nous nous dirigeons vers une paix merveilleuse.



Avez-vous déjà senti que votre esprit était calme même pendant 1 minute, je ne l'ai trouvé calme qu'en dormant. Cette chose arrive à tout le monde parce qu'en dormant, cet esprit s'endort aussi, mais peut-être que les rêves qui se produisent le réveilleront également quelque part.

Mais à part cela, je ne pouvais pas trouver ça calme en gardant mon corps éveillé, mais j'ai beaucoup essayé de garder mon esprit silencieux.

Apprendre à être tranquille, dire que c'est un art très difficile, dans lequel ce n'est qu'après beaucoup d'efforts qu'on peut garder le silence pendant quelques instants.

J'essaie de faire cet art depuis 3 mois. Chaque jour en 1 heure, réfléchissez à mon esprit, j'essaie de dire à mon esprit de se taire un instant mais ça ne donne aucun respect. Après beaucoup d'efforts, je sais garder le silence pendant quelques instants.

Permettez-moi également de vous dire comment j'essaie de le faire et que certaines personnes l'ont peut-être fait et le font même.

Vous pouvez le faire en étant assis en situation de méditation ou en vous allongeant comme un cadavre, cela peut également être possible, ce qui signifie laisser votre corps détendu.

Maintenant, nous devons fermer les yeux et prendre une profonde respiration et compter pendant 100 secondes pendant quelques instants.

Maintenant, chaque fois que vous voyez si votre esprit erre ici et là, vous répétez immédiatement la méthode mentionnée ci-dessus.

Vous pouvez le faire pendant quelques jours. Maintenant, si vous sentez que votre esprit est quelque peu sous contrôle, vous passez à l'autre méthode.

Gardez à l'esprit que vous devez garder votre corps absolument stable. Ne bougez pas du tout votre corps.

Vous devez maintenant concentrer votre esprit sur votre souffle et le bout de votre nez. Vous devez lier votre esprit pour faire attention à votre respiration encore et encore.

Dans une telle situation, votre esprit s'égare et différentes pensées peuvent surgir. Mais encore une fois, retirez-le des pensées et concentrez-vous sur la respiration.

Avec cette méthode, votre esprit peut être calme pendant quelques instants au moins et vous pourrez rester silencieux, mais cela prendra beaucoup de temps. Mais continuait à faire cette méthode.

Vous devez également savoir pourquoi votre esprit erre ici et là. C'est parce qu'il erre à la recherche du bonheur et du chagrin.

Le sens est que lorsque nous désirons quelque chose, alors cet esprit commence à bouger. Ensuite, si nous obtenons cette chose, alors nous et l'esprit obtenons le bonheur et si cette chose n'est pas trouvée, alors cet esprit devient triste et nous sommes tristes.

Cela signifie que si nous gardons nos souhaits sous notre contrôle, notre esprit ne sera pas aussi distrait.
En arrêtant ou en contrôlant les souhaits, votre esprit peut également être sous contrôle.


Subscribe my YouTube Channel Link Below Mentioned.
https://www.youtube.com/channel/UCvSi5aeQn_TmRCKW_Z1BGOw?view_as=subscriber
Previous
Next Post »